धन प्राप्त करने के उपाय   

धन की कमी न रहे

1- धन से बढ़ता धन : अपनी तिजोरी में 10 के लगभग 100 से ज्यादा नोट रखें। जेब में हमेशा कुछ सिक्के रखें। खुद को धनवान मानना शुरू कर दें और उसी तरह से कपड़े पहनें और जो भी आप खरीदना चाहते हैं उसके बारे में कल्पना करें। जो लोग खुद को दरिद्र मानते हैं, वे हमेशा दरिद्र ही बने रहते हैं।

2- दालचीनी के पाउडर को लेकर उस पर से सात बार अगरबत्ती को एन्टी क्लाॅक वाइज घूमा कर उमसें अपनी कल्पना से ईश्वर की प्रार्थना से धन की बरकत के बारे में सोचें और फिर उसे अपने पर्स में छिड़क लें। बची हुई दालचीनी पाउडर को घर के मंदिर में ही रख दें और हर दूसरे तीसरे दिन यही क्रिया दोहरायें। आपका पर्स ईश्वर की कृपा से भरा रहेगा। –

3- एक साबुत दालचीनी का रोल ले लें। उसके अंदर कोई भी एक नोट रोल करके डाल दें तथा उसके ऊपर से 3 बार मौली लपेटकर गांठ लगा दें तथा ईश्वर से प्रार्थना करें कि आपके कार्यालय या घर में धन की कमी न रहे। ऐसा करने के बाद उसे कार्यालय या घर के बाहर लटका दें। इसे पर्स या धन स्थान में भी रख सकते हैं।

4- ये टोटका आपको गुरुवार को करना है। – साबुत सूखा धनिया शुक्ल पक्ष के किसी भी मंगलवार अथवा गुरुवार को एक मिट्टी के बर्तन में इक्कीस रुपये के सिक्के डालकर ऊपर से मिट्टी डालें फिर धनिया डालकर हल्के हाथ से मिक्स कर दें और थोड़ा सा पानी डाल दें। ऐसा करने के बाद बर्तन को उत्तर दिशा में रख दें और रोज थोड़ा पानी डालें। जब धनिया उसमें से पूरी तरह निकल आये तब उसे तोड़कर उपयोग में ले आएं तथा सिक्के निकाल कर लाल कपड़े में बांधकर घर या कार्यालय कहीं भी लटका दें। धन का आगमन शुरू हो जाएगा। –

5- किसी भी शुक्रवार को मां लक्ष्मी के मंदिर में झाड़ू दान करने से भी मां लक्ष्मी की प्रसन्नता प्राप्त होती है। –

6- किसी भी शुभ दिन शुभ मुहूर्त या शुक्रवार को अशोक की जड़ को लाकर गंगाजल से पवित्र करें तत्पश्चात उसे धन स्थान में रखें।

7- शनिवार के दिन एक सूखा नारियल लेकर उसके बीच में सुराख बनाएं और उसमें आटा, चीनी, तिल और गुड़ भर दें।

8- लक्ष्मी के साथ 51 कौडिय़ों की पूजा कर उन्हें पूजास्थल, तिजोरी एवं व्यवसाय स्थल पर रखना शुभ फलदायी होता है।

9- यदि किसी व्यक्ति सड़क पर कौड़ी मिलती है तो यह बहुत ही शुभ होता है और ऐसी कौड़ी को संभालकर रखना चाहिए

10- पूजन के बाद दोनों पीली कौडिय़ों को अलग-अलग लाल कपड़े में बांधे। एक कौड़ी घर में वहां रखें, जहां पैसा रखते हैं। दूसरी कौड़ी अपने पर्स में रखें।

11- पुरानी मान्यता है कि गुरुवार को घर में पोछा न लगाएं ऐसा करने से लक्ष्मी रूठ जाती है। शेष सभी दिनों में पोंछा लगाना चाहिए।

12-   प्रातःकाल कुछ भी खाने से पूर्व सर्वप्रथम घर में झाड़़ू. अवश्य लगानी चाहिए

13-   घर से प्रातः चाहे जितनी जल्दी निकलना पड़े, बिना झाड़़ू. लगे न निकले।

14- शीतकाल में किसी भी अमवस्या की अर्द्धरात्रि में एक कम्बल शीत से ठिठुरते किसी भिखारी के ऊपर चुपचाप डाल कर घर लौट आएं।

15-   दरिद्र को यथाशक्ति भोजन और कपड़ा दान दिया करें।

16-   धन सम्बन्धी समस्त कार्यो के लिए सोमवार अथवा बुधवार चुना करें।

17- 501 ग्राम छुहारों का पूजन करें। उनका तिलक करें, धूप दीप से आरती उतारें, प्रसाद का भोग लगाएं और रात्रि भर पूजा स्थान पर रखा रहने दें। अगले दिन उन्हें लाल चमकीले या मखमली कपड़े में बांधकर अपनी तिजोरी में रख दें। 51 दिन तक प्रतिदिन एक रुपया किसी भी मंदिर में माता लक्ष्मी को अर्पित करें। इससे वर्ष भर लक्ष्मी स्थिर रहती है

18- राई से करें दरिद्रता निवारण-
पैसों का कोइ जुगाड़ न बन रहा हो तथा घर में दरिद्रता का वाश हो तो यह करें: एक पानी भरे घड़े में राई के पत्ते डालकर इस जल को अभिमंत्रित करके जिस भी किसी व्यक्ति को स्नान कराया जाएगा उसकी दरिद्रता रोग नष्ट हो जाते हैं।

19- धन लाभ के लिए शनिवार की शाम को माह (उड़द) की दाल के दाने पर थोड़ी सी दही और सिंदूर डालकर पीपल के नीचे रख आएं। वापस आते समय पीछे मुड़कर नहीं देखें। यह क्रिया शनिवार को ही शुरू करें और 7 शनिवार को नियमित रूप से किया करें, धन की प्राप्ति होने लगेगी।

20- – महालक्ष्मी व्रत के 15 दिनों में किसी भी रात 3 से 5 बजे के बीच उठें। अपने घर के उस स्थान पर  जायें,जहां से खुला  आसमान दिखता हो। पश्चिम की ओर मुख करके, दोनों हाथ आसमान की ओर उठा कर, लक्ष्मी जी धन की भिक्षा मांगें।  फिर दोनों हथेलियों को मुंह की ओर फेर लें। कुछ दिनों में आमदनी के स्रोत बढ़ने लगेंगे। यह उपाय आप महालक्ष्मी व्रत  के 15 दिन के अलावा , किसी और दिन से भी शुरु कर सकते हैं।

21- धन से बढ़ता धन : अपनी तिजोरी में 10 के लगभग 100 से ज्यादा नोट रखें। जेब में हमेशा कुछ सिक्के रखें। खुद को धनवान मानना शुरू कर दें और उसी तरह से कपड़े पहनें और जो भी आप खरीदना चाहते हैं उसके बारे में कल्पना करें। जो लोग खुद को दरिद्र मानते हैं, वे हमेशा दरिद्र ही बने रहते हैं।

22- – गुरुवार करें : प्रति गुरुवार को पीपल में जल चढ़ाएं और माथे पर केसर का तिलक लगाएं। धनलाभ होगा।
23- इस नारियल को शाम के समय सुनसान स्थान पर ले जाकर जमीन में दबा दें। इस उपाय से ग्रह दोषों के कारण धन आगमन में आ रही बाधा दूर होगी एवं आकस्मिक परेशानियों से भी बचाव होगा।
24- कोशिश करें कि हर शनिवार चिटियों को आटा दें और शनि महाराज को सरसो तेल का दीपक दान करें।

25- नौकरी न मिल रही हो तो मन्दिर में बारह फल चढ़ाएं। यह उपाय नियमित रूप से करें और इश्वर से नौकरी मिलने की प्रार्थना करें।

26- व्यापार मंदा हो तथा पैसा टिकता न हो, तो नवग्रह यन्त्र और धन यन्त्र घर के मन्दिर में शुभ समय में स्थापित करें। इसके अतिरिक्त सोलह सोमवार तक पांच प्रकार की सब्जियां मन्दिर में दें और पंचमेवा की खीर भोलेनाथ को मन्दिर में अर्पित करें। सभी कामनाएं पूरी होंगी

कन्याराशि वाले जातकों के लिए बहुत ही सुंदर उपाय है। आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए – दो कमलगट्टे लेकर उन्हें माता लक्ष्मी के मंदिर में अर्पित करते हुए धन प्राप्ति की कामना करें।

धनु- धनु राशि वाले जातक यदि अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत करना चाहते हैं तो गुलर के ग्यारह पत्तों को नाड़े से बांधकर किसी बरगद के वृक्ष पर बांध दें। आपकी मनोकामना पूरी होगी। इसके अलावा पीली कौड़ियां भी जेब में रख सकते हैं।

मकरमकर राशि के जातकों के लिए आर्थिक तंगी से निजात पाने के लिए बहुत ही उत्तम उपाय है। उसके लिए आप शाम को आक की रूई का दीपक या एक रोटी अपने ऊपर से 21 बार उतार (वार) कर किसी तिराहे पर रख सकते हैं। इससे घर में बरकत रहने लगेगी।

कुंभकुंभ राशि के जातकों के लिए धन प्राप्त करने के बहुत ही सुंदर उपाय है। आप विष्णु-लक्ष्मी की संयुक्त रूप से प्रार्थना-पूजन करें। जहां पूजन करें वहीं रात भर जागरण करें। आपकी आर्थिक तंगी दूर हो जाएगी।

ये कुछ टोटके हैं जो आपके जीवन में सुख समृद्धि ला सकते हैं। इन्हें करके हम अपनी तथा दूसरों की मुश्किलों को आसान कर सकते हैं।

धन प्राप्त करने के सरल उपाय

धन आने का साधन

आप अपने निवास स्थान में उत्तर-पूर्व दिशा में एक साफ जगह पर स्थान चुन लीजिये, उस स्थान को गंदगी आदि से मुक्त कर लीजिये, फिर एक साफ लकडी का पाटा उस स्थान पर रख लीजिये,और एक चमेली के तेल की सीसी, पचास मोमबत्ती सफेद और पचास मोमबत्ती हरी और एक माचिस लाकर रख लीजिये। अपना एक समय चुन लीजिये जिस समय आप जरूर फ्री रहते हों, उस समय में आप घडी मिलाकर ईश्वर से धन प्राप्त करने के उपाय करना शुरु कर दीजिये। पाटे को पानी और किसी साफ कपडे से साफ करिये, एक हरी मोमबत्ती और एक सफेद मोमबत्ती दोनो को चमेली के तेल में डुबोकर नहला लीजिये,दोनो को एक माचिस की तीली जलाकर उनके पैंदे को गर्म करने के बाद एक दूसरे से नौ इंच की दूरी पर बायीं (लेफ्ट) तरफ हरी मोमबत्ती और दाहिनी (राइट) तरफ सफेद मोमबत्ती पाटे पर चिपका दीजिये। दुबारा से माचिस की तीली जलाकर पहले हरी मोमबत्ती को और फिर सफेद मोमबत्ती को जला दीजिये,दोनो मोमबत्तिओं को देखकर मानसिक रूप से प्रार्थना कीजिये ष्हे धन के देवता कुबेर ! मुझे धन की अमुक (जिस काम के लिये धन की जरूरत हो उसका नाम) काम के लिये जरूरत है, मुझे ईमानदारी से धन को प्राप्त करने में सहायता कीजियेष्, और प्रार्थना करने के बाद मोमबत्ती को जलता हुआ छोड कर अपने काम में लग जाइये। दूसरे दिन अगर मोमबत्ती पूरी जल गयी है, तो उस जले हुये मोम को वहीं पर लगा रहने दें, और नही जली है तो वैसी ही रहने दें, दूसरी मोमबत्तियों को पहले दिन की तरह से ले लीजिये, और पहले जली हुयी मोमबत्तियों से एक दूसरी के नजदीक लगाकर जलाकर पहले दिन की तरह से वही प्रार्थना करिये, इस तरह से धीरे धीरे मोमबत्तिया एक दूसरे की पास आती चलीं जायेगी, जितनी ही मोमबत्तियां पास आती जायेंगी, धन आने का साधन बनता चला जायेगा, और जैसे ही दोनो मोमबत्तियां आपस में सटकर जलेंगी, धन प्राप्त हो जायेगा। जब धन प्राप्त हो जाये तो पास के किसी धार्मिक स्थान पर या पास की किसी बहती नदी में उस मोमबत्तियों के पिघले मोम को लेजाकर श्रद्धा से रख आइये या बहा दीजिये, जो भी श्रद्धा बने गरीबों को दान कर दीजिये, ध्यान रखिये इस प्रकार से प्राप्त धन को किसी प्रकार के गलत काम में मत प्रयोग करिये,अन्यथा दुबारा से धन नही आयेगा।

Our Services

Feedjit Widget